Articles




Articles

A few questions for Anurag Sharma, DGP of Telengana

By Ubaid ur Rahman for Twocircles.net

Last December, Intelligence Bureau organised an All-India conference of Directors General of Police which was attended by Director General of Police (DGPs) of all the state and Head of various security agencies.

Education not diminishing India’s preference for boys

By Tanay Sukumar

Young graduate mothers gave birth to 899 girls per 1,000 boys, lower than the national average of 943, according to an IndiaSpend analysis of Census data.

Higher education levels have helped in better family planning, but they do not eliminate the preference for boys, the analysis reveals.

The reason, experts said, could be that the educated are more likely to afford sex-selective abortions to kill chances of giving birth to girls.

India outlawed sex-selective abortion in 1994.

जेएनयू विवाद: भूख हड़ताल से आगे का रास्ता

फहमिना हुसैन, TwoCircles.net

दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू में चल रहा विवाद अब पूरे नए फलक पर आ चुका है. राष्ट्रद्रोह और देशविरोधी कार्यक्रमों के मामले में जांच के लिए गठित की गयी समिति HLEC ने विश्वविद्यालय के छात्रों को अर्थदण्ड और निलंबन की सजा सुनाई थी. इसे जेएनयू छात्रसंघ से जुड़े लोगों और तमाम सारे छात्रों ने एक फाशिस्त और निजामी हरक़त की तरह देखा. इसके बाद भूख हड़ताल का सिलसिला शुरू हुआ, जो अभी तक जारी है.

"हाईस्कूल में सवर्ण मुझे मारते-पीटते थे" - बिहार आयोग के चेयरमैन हुलेश मांझी

अफ़रोज़ आलम साहिल, TwoCircles.net

पटना: बिहार राज्य महादलित आयोग के चेयरमैन डॉ. हुलेश मांझी ने हाल में ही बेहद हैरान करने वाला बयान दिया है. हुलेश मांझी ने खुद के छूआछूत व भेदभाव के शिकार होने की बात कही है. यह बात विडम्बनापूर्ण ही है कि जिस आयोग के अधिकारी ने खुद को दलित उत्पीड़न का भोगी बताया है, वही आज बिहार के दलितों को न्याय दिलाने का बीड़ा उठाए हुए हैं.

5 percent of Indian marriages inter-caste; in Mizoram, 55 percent

By Prachi Salve & Saumya Tewari

Christian-dominated Mizoram - 87 percent of the population is Christian - has the most inter-caste marriages in India, a nation where 95 percent of Indians marry within their caste, according to a 2016 report from the National Council of Applied Economic Research (NCAER), a New Delhi-based think-tank.

No ban on Hijab, only need to remove it during security check, says CISF

By Amit Kumar, TwoCircles.net

Delhi: The Central Industrial Security Force has made it clear that there is no ban on wearing a face mask, Burqa or Hijab in the Delhi Metro and that the person needs to remove them only during frisking.

उर्दू पत्रकारिता का सच बयान करता एक लेखक

अफ़रोज़ आलम साहिल, TwoCircles.net

दिल्ली: इन दिनों देश की राजधानी में उर्दू खूब फल-फूल रही है. दिल्ली में अब उर्दू अख़बारों की संख्या सैकड़ों में है, इनमें 85 अख़बारों को सरकारी विज्ञापन मिल रहे हैं. उर्दू अख़बारों के वितरण की बात की जाए तो अब यह 15 लाख से भी अधिक है. यह बातें यक़ीनन उर्दू में लिखने-पढ़ने वालों के लिए किसी फ़क्र से कम नहीं है.

TwoCircles.net to celebrate its 10 year anniversary with community awards

By Kashif-ul-Huda, TwoCircles.net

TwoCircles.net, the news website of the marginalized has achieved a major milestone this month by completing ten years of continuous operation. TCN will be celebrating this occasion with its supporters at an event in the Greater Boston area on May 22, 2016.

A community is made up of individuals and as a community we need to recognize these individuals and organizations that are doing work that makes an impact in the community.

ख़त्म होती मौलाना मज़हरूल हक़ की विरासत

अफ़रोज़ आलम साहिल, TwoCircles.net

पटना:मौलाना मज़हरूल हक़ की निशानियां अब मिटने की कगार पर हैं. हक़ साहब बिहार का गौरव थे लेकिन समय ने मूल्यों को ऐसा बर्बाद किया कि अब बिहार में ही उन्हें कोई नहीं जानता है. उनकी अपनी ही ज़मीन पर उन्हें अजनबी क़रार दिया जा रहा है. यह ज़मीन बिहार विद्यापीठ की है, जिसकी नींव खुद मौलाना मज़हरूल हक़ ने डाली थी. उनकी कोशिशों के बदौलत एक ज़माने में यह विद्यापीठ तालीम का मशहूर केन्द्र बनकर उभरा था, मगर प्रशासन की लापरवाही और उपेक्षा ने यहां की तस्वीर ही बदल डाली है.

Death Penalty India Report is a severe indictment of the Judiciary System

By Aqeel Ahmad for Twocircles.net

Since the mere mention of death penalty leads to a heated debate, it must be stated at the outset that the “Death Penalty India Report” is not about the arguments for the abolition (or retention) of the death penalty. The only stand that the authors of the report take is that the death penalty is a qualitatively unique punishment, incomparable to any other punishment, and this is not merely due to its irreversibility.

Pages