भंते बुद्ध प्रकाश : जादूगरों की बखिया उधेड़ने वाला जादूगर

अफ़रोज़ आलम साहिल, TwoCircles.net

बेगुसराय: आज भी देश के कई पिछड़े इलाक़ों में अंधविश्वास चरम सीमा पर है. लोग रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में इसके प्रभाव और नुक़सान दोनों झेल रहे हैं. ऐसे में बिहार के बेगुसराय के इस शख़्स ने लोगों की आंखें खोलने की एक नायाब तहरीक को अंजाम दिया है.

इनका नाम भंते बुद्ध प्रकाश है. बौद्ध धर्म में दीक्षित बुद्ध प्रकाश अपने तौर-तरीकों को लेकर ख़ासा चर्चा में है. इन तौर-तरीक़ों की शुरूआत जादू से होती है. भंते अंधविश्वास से बुरी तरह प्रभावित इलाक़ों में जाकर सबसे पहले खुद जादू दिखाते हैं. पर इससे पहले कि लोग इनके जादू के झांसे में आ जाएं, खुद ही उनके द्वारा दिखाए गए जादू की हक़ीक़त बयान करना शुरू कर देते हैं. वो एक-एक करके इस मायाजाल की पूरी क़लई खोल देते हैं. फिर लोगों को आगाह करते हैं कि जादू-टोना और अंधविश्वास का कारोबार करने वालों से खुद को बचा कर रखें.

Bhante Buddh Prakash

बुद्ध प्रकाश बिहार अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य रह चुके हैं. बिहार के किसी के भी गांव में यदि अंधविश्वास के कारण किसी के मौत की जानकारी मीडिया के ज़रिए उन्हें मिलती है तो स्थानीय प्रशासन की मदद लेकर वे तुरंत उस गांव में पहुंचते हैं और वहां लोगों को अंधविश्वास के प्रति जागरूक करते हैं.

Bhante Buddh Prakash

भंते बुद्ध प्रकाश अंधविश्वास निर्मूलन के लिए देश के तक़रीबन 13 राज्यों में घूमकर लोगों में ‘अंधविश्वास भगाओ, देश बचाओ’ मुहिम चलाकर जागरूकता फैला रहे हैं. वे अब तक बिहार के अधिकतर गांवों के अलावा उत्तर प्रदेश, झारखंड, गुजरात, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश व हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों के स्कूल, कॉलेज व सार्वजनिक स्थानों पर अपना कार्यक्रम कर चुके हैं.

भंते देश की कई जेलों में जाकर क़ैदियों को अपना जादू दिखाकर अंधविश्वास व जादू-टोने जैसी मुगालतों से दूर रहने की सलाह देते हैं. उनका मानना है कि जेल में ज़्यादातर क़ैदी ऐसे हैं, जो समाज में मौजूद अंधविश्वास के कारण जुर्म करते हैं और आज जेल की सलाखों के पीछे हैं.

बुद्ध प्रकाश कहते हैं, ‘अंधविश्वास का असल कारण अशिक्षा है. जहां अशिक्षा है, वहां गरीबी है और जहां गरीबी है वहां अंधविश्वास का बोलबाला होता है. भूत-प्रेत, जादू-टोना, झाड़-फूंक, ओझा, भगत, डायन आदि सब अंधविश्वास है. यह सब हाथ की सफ़ाई है. कथित तांत्रिक गरीब व असहाय औरतों को डायन बता लोगों को ठगते हैं.’

बातों-बातों में भंते प्रकाश बताते हैं, ‘आरएसएस के कुछ भंते भी पूरे देश में अंधविश्वास फैला रहे हैं. वो बुद्ध की असल बातों को नहीं बताते. हद तो यह है कि वे बुद्ध को विष्णु का अवतार बताने लगे हैं.’

इनके निशाने पर निर्मल बाबा और बाबा रामदेव भी रहे हैं. बुद्ध प्रकाश का कहना है कि बाबा रामदेव भी योग के नाम पर भ्रम फैला रहे हैं. सोचने की बात है कि भला योग से कैंसर व एड्स का उपचार कैसे संभव है? योग तो एक शाश्वत विद्या है, इससे कुछ शारीरिक व्याधियां ज़रूर दूर हो सकती हैं, लेकिन एड्स और कैंसर जैसे रोगों का दूर होना असंभव हैं. बाबा बस अपने कारोबारी हितों को ध्यान रखते हुए देश-विदेश में घूमकर भ्रम फैला रहे हैं और हैरानी की बात यह है कि इनके भ्रमजाल में पड़कर पढ़े-लिखे लोग ही ठगे जा रहे हैं.

बावजूद इसके भंते प्रकाश का मानना है कि उनकी इस मुहिम का असर देश के कई गांव खासकर के बिहार के गांवों में दिखाई पड़ने लगा है. सारे बाबाओं की पोल खुलने लगी है, क्योंकि धीरे-धीरे लोग जागरूक होना शुरू हो गए हैं. मगर सामने चुनौतियां भी कम नहीं हैं. अंधविश्वास व काला जादू की आड़ में मुनाफ़े का कारोबार कर रहीं ताक़तें उनके ख़िलाफ़ हो गई हैं और इन्हें कई बार नुक़सान पहुंचाने की कोशिश कर चुकी हैं.

बुद्ध प्रकाश का मानना है कि अंधविश्वास कैंसर से भी अधिक घातक और भयानक है. लोग आमतौर पर आसानी से इसके चक्कर में अपनी मेहनत की गाढ़ी कमाई व जान दोनों गंवा देते हैं.

Bhante Buddh Prakash

प्रकाश कहते हैं, ‘विज्ञान के इस युग में तमाम सुविधाओं के बावजूद सिर्फ़ अंधविश्वास के कारण ही हम और हमारा देश तरक़्क़ी नहीं कर पा रहा है.’

वे आगे कहते हैं, ‘भाग्य व भगवान के चपेट से हटकर हमें विज्ञान की ओर जाना है. हमें रोटी, कपड़ा व मकान चाहिए, शिक्षा और सम्मान चाहिए. भगवान नहीं, विज्ञान चाहिए.’ वो आगे बताते हैं, ‘कण-कण में भगवान नहीं, बल्कि कण-कण में विज्ञान है. हमें डार्विन के सिद्धांत को समझने की ज़रूरत है.’

भंते बुद्ध प्रकाश का सपना ख़ासतौर पर पूरे बिहार को एक आदर्श, उन्नत और वैज्ञानिक सोच वाला राज्य बनाने का है. वो अपने इस मिशन जी-जान से जुटे हुए हैं. उनकी क्षमताएं सीमित हैं. संसाधन भी सीमित हैं, मगर हौसले में कहीं कोई कमी नहीं है. अगर बिहार सरकार भंते बुद्ध प्रकाश की इस प्रयास में थोड़ी मदद कर दे तो ये कोशिशें एक बड़े बदलाव की आधारशिला साबित हो सकती है.

भंते बुद्ध प्रकाश ने TwoCircles.net के पाठकों के लिए कुछ छोटे-मोटे जादू और हक़ीक़तों को बयान किया है. आप उनके जादू और उस जादू की सच्चाई को नीचे के वीडियो में देख सकते हैं :

Related:

TCN Positive page

SHARE